GARBHARAKSHAMBIKA STOTRAM

गर्भरक्षाम्बिका स्तोत्रम्


The following hymn on ‘Garbharakshambika’
, the presiding deity of Tirukkarukkaavoor in Tamilnadu, is widely recited by
pregnant women  for the protection of the
child in the womb
श्री माधवी काननस्थे
गर्भरक्षाम्बिके  पाहि भक्तं स्तुवन्तम्
वापीतटे वाम भागे
वामदेवस्य देवि स्थिता त्वम्,
मान्या वरेण्या
वदान्या
पाहि गर्भस्थ जन्तून्
तथा भक्तलोकाऩ् ॥ 1 ॥
(श्री माधवी …)
श्री गर्भरक्षा पुरे
या
दिव्यसौन्दर्य युक्ता, सुमंगल्य गात्री,
धात्री, जनित्री जनानाम्
दिव्यरूपाम् दयार्द्राम् मनोज्ञां भजे ताम् ॥
2॥ (श्री माधवी
…)
आषाढ मासे सुपुण्ये
शुक्रवारे सुगन्धेन गन्धेन लिप्ता,
दिव्याम्बराकल्प वेषा
वाजपेयादि यागस्थ
भक्तैस्सुतुष्टा ॥3॥ (श्री
माधवी …)
कल्यणदात्रीं नमस्ते,
वेदिकाख्य
स्त्रिया गर्भरक्षाकरीं त्वाम्,
बालैस्सदा सेविताङ्घ्रीम्,
गर्भरक्षार्थं आरादुपेतैरुपेताम्  ॥4 ॥
(श्री माधवी …)
ब्रह्मोत्सवे विप्र वीथ्यां,
वाद्यघोषेण तुष्टां
रथे सन्निविष्टाम्,
सर्वार्थदात्रीम्
भजेऽहम्,
देववृन्दैरपीड्यां जगन्मातरं त्वाम् ॥5॥ (श्री माधवी …)
एतत् कृतं स्तोत्र
रत्नं,
दीक्षितानन्तरामेण देव्या सुतुष्ट्यै,
नित्यं पठेद्यस्तु भक्त्या
पुत्रपौत्रादि भाग्यं भवेत्तस्य
नित्यम् ॥6॥ (श्री माधवी …)
(the above hymn in Tamil script is
given below)





ஶ்ரீ
மாதவீ கானனஸ்தே
கர்பரக்ஷாம்பிகே  பாஹி பக்தம்
ஸ்துவந்தம்
வாபீ
தடே வாம பாகே
வாம தேவஸ்ய
தேவி ஸ்திதா த்வம்,
மான்யா
வரேண்யா வதான்யா,
பாஹி கர்பஸ்த
ஜந்தூன் ததா பக்த
லோகான் || 1 || (ஶ்ரீ மாதவீ …)
ஶ்ரீ
கர்பரக்ஷா புரே யா
திவ்யஸௌந்தர்ய
யுக்தா, ஸுமங்கல்ய காத்ரீ,
தாத்ரீ,
ஜனித்ரீ ஜனானாம்
திவ்யரூபாம்
தயார்த்ராம் மனோஜ்ஞாம் பஜே
தாம் || 2|| (ஶ்ரீ மாதவீ …)
ஆஷாட
மாஸே ஸுபுண்யே
ஶுக்ரவாரே
ஸுகந்தேன கந்தேன லிப்தா,
திவ்யாம்பராகல்ப வேஷா
வாஜபேயாதி
யாகஸ்த பக்தைஸ்ஸுதுஷ்டா ||3||
(ஶ்ரீ மாதவீ …)
கல்யணதாத்ரீம்
ந்மஸ்தே,
வேதிகாக்ய
ஸ்த்ரியா கர்ப ரக்ஷாகரீம்
த்வாம்,
பாலைஸ்ஸதா
ஸேவிதாம்க்ரீம்,
கர்பரக்ஷார்தம் ஆராதுபேதைருபேதாம்  ||4 || (ஶ்ரீ
மாதவீ …)
ப்ரஹ்மோத்ஸவே
விப்ர வீத்யாம்,
வாத்யகோஷேண
துஷ்டாம் ரதே ஸன்னிவிஷ்டாம்,
ஸர்வார்த்த தாத்ரீம் பஜேஹம்,
தேவவ்ருந்தைரபீட்யாம் ஜகன்மாதரம் த்வாம்
||5||
(ஶ்ரீ மாதவீ …)
ஏதத்
க்ருதம் ஸ்தோத்ர ரத்னம்,
தீக்ஷிதானந்தராமேண தேவ்யா ஸுதுஷ்ட்யை,
நித்யம்
படேத்யஸ்து பக்த்யா
புத்ரபௌத்ராதி
பாக்யம் பவேத்தஸ்ய நித்யம்
||6||
(ஶ்ரீ மாதவீ …)



Sri P R Ramamurthy Ji was the author of this website. When he started this website in 2009, he was in his eighties. He was able to publish such a great number of posts in limited time of 4 years. We appreciate his enthusiasm for Sanskrit Literature. Authors story in his own words : http://ramamurthypr1931.blogspot.com/

Author Socials Follow me

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.